पिता, जिसने शिकायत की, माँ के कहने पर उसी को अंदर कर दिया। बड़ा केस ठोक कर

अगर दो आवाज़ें एक साथ सुनाईं दें तो एक विडियो पाज़ (Pause) कर लें। इस पोस्ट में दो विडियो हैं, दोनों एक साथ चलेंगे तो दो आवाज़ें सुनेनेंगी।
पहला विडियो
https://www.facebook.com/bathindahelper/videos/894877167527511/

इससे पहले जब उसका पिता 18 अप्रैल, 2019 में मेरे पास रोता हुआ आया था, उसकी हालत आप उस वक़्त बनाए गए नीचे दिये इस विडियो में देख सकते हैं।
दूसरा विडियो
https://www.facebook.com/zopfans/videos/10216727763060162/?app=fbl
येही विडियो फ़ेसबुक की इस लाइव पोस्ट में डाली गयी थी 18 अप्रैल को।

पहले जब पिता रूपेश ही भागा फिर रहा था और प्रैस क्लब में यह कॉन्फ्रेंस करके, लड़की की मोजूदगी में, यह न्यूज़ नैक्सट डे (मिड अप्रैल में) आई थी, तब नहीं लड़की या उसकी माँ या उसकी नानी को मालूम था की जो पिता सब कहीं भागा फिर रहा है, culprits को पकड़वाने के लिए, मुझे गलत काम करने के लिए तो वही कहता है? आज डेड दो महीने बाद माँ बेटी सब कहने लग गईं की सब कुछ पिता ही करवाता है। अगर पिता करवाता तो जब लड़की डेड महीने के लिए गायब थी, तो तब माँ ने अपने पति पर शक क्यूँ नहीं जताया? क्यूँ पिता डेड महीने हरेक के पास जा जा कर फर्याद करता रहा?
image

और अब कल, जब लड़की की माँ और नानी ने पिता को ही फंसा दिया। (तब नहीं किसी को पता था की लड़की का पिता लड़की से यह काम करवाता है। आज डेड महीने बाद इनको पता चल गया) तब यह न्यूज़ लगी है।
855003318_280421

1 Like

दुख है की एक भी मेम्बर ने इस बात पर अपने विचार रखने योग्य न समझा? मुझे कल से करीब 13-14 लोगों ने मिलकर/फोन पे अपनी हमदर्दी पिता के लिए पेश कर दी। लेकिन इतनी डरती है दुनिया की अपने विचार लोगों के सामने नहीं रख सकते। मैंने उन सभी से भी कहा की जो आप मुझे फोन पे कह रहे हैं, वही चीज़ यहाँ इस पोस्ट पर लिख दीजिये। लेकिन नहीं।

क्या आपके पास 1 मिनट भी नहीं है गलत के वीरुध दो शब्द लिखने का?
चाहे आपको माँ/नानी में सच्चाई लगे, चाहे लड़की के पिता रूपेश में। लेकिन कुछ बोलिए/लिखिए तो सही!!!

इतनी कायरता तो न दिखाईए। मेरा प्रॉमिस है की आप पर कोई आंच नहीं आएगी। अपने विचार खुल के रखिए। केवल इसी मुद्दे पर नहीं, बल्कि हर मुद्दे पर। अगर आप डर रहे हैं, तो यह गैरंटी है की आपके बच्चे भी उसी डर में ही बड़े होंगे।

इस केस की प्रोपर इन्वेस्टिगेशन होनी चाहिए ! दोसी को सजा मिलनी चाहिय लेकिन किसी बेगुनाह को नही इसमे कोई सियासत नही होनी चाहिए और मेरी सभी समाजसेवी संस्थाओ और बठिडा वसियो से अपील है कि वो भी इसमें अपना योगदान दे ताकि सच सामने आ सके धन्यवाद!

1 Like

लेकिन जतिन जी आपने खुद के विचार तो बताए नहीं की आपको कौन सही लगता है?

जब आपने ही नहीं बताया, जबकि आप उसके फादर को इतना नजदीक से जानते हैं, तो कोई और क्या बताएगा?

कही भी कोई भी फैसला दोनों पक्षों की बात सुने बिना नहीं लीया जा सकता, अब father एंड son की बात सुनी हैं, तो निसंदेह , येह ठीक लग रहे हैं, लेकिन दुसरे पक्ष का हमे कुछ नहीं पता.

फिर भी पहली नज़र में पिता सही लग रहे है, जो काफी भाग दौड़ कर रहे थे, लेकिन बेटी और माँ , इनको कुओं फ़साना चाहती है? complication हैं केस में

1 Like

जितना मैं जानता हूं उस हिसब से लड़की के पिता जो मुझे 99% लगता है कि वो बेकसूर है क्योंकि उन्होंने बहुत मेहनत की है जहाँ जो कहता था उसको मिलने गए लेकिन आज उसको एक साजिश के तहत या फिर किसी मिसअंडरस्टैंडिंग के तहत फसाया गया है! एक बार इस केस की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए

1 Like

यह है उसके पिता जी की तस्वीर (जो लेडी के पीछे चेक वाली शर्ट पहन के खड़ा है।
image

जब मुद्दे बड़े लोगों के हो जाएँ तो छोटे लोगों की आहुतियाँ ली ही जातीं हैं।

अब जब सभी पॉलिटिकल पार्टीस इसमें कूद गईं और पुलिस पर कुछ कर दिखाने का प्रैशर बढ़ गया तो अब लड़की जिस और भी उंगली कर देती है, उसी को पकड़ कर अंदर का दिया जा रहा है।

इसी चक्कर में लड़की की माँ और नानी ने अपने पुराने घरेलू झगड़ों का बदला लेते हुए, लड़की से उसके अपने फादर की तरफ ही उंगली करवा दी गयी की सब कुछ इसी का करा धारा है। और पुलिस ने तुरुन्त उस गरीब पर उम्र कैद की धाराएँ लगाते हुए उसको अंदर फेंक दिया।
अब उसकी कोई सुनने वाला नहीं।
image
image
image

हैलो बठिंडा!