यह कैसा अन्याय हो रहा है।

हैलो बठिंडा!