अब तो खेरा भी भटिंडा वासियों के हितेशी की तरह बात करने लग गया। पहले येही खेरा एम्स को यहाँ से बाहर धकेल रहा था।

हैलो बठिंडा!