हिन्दू ज्योतिष में नवग्रह (संस्कृत में नवग्रह नौ ग्रह) को ‘नौ प्रभावकारी ‘ माना जाता है. और माना जाता है की यह प्राणियों के व्यवहार पर लौकिक प्रभाव को इंगित करते हैं।  ज्योतिषियों का दावा है कि यह ग्रह पृथ्वी से जुड़े प्राणियों की प्रभा (ऊर्जा पिंडों) और मन को प्रभावित करते हैं। ग्रहों  की ऊर्जा किसी व्यक्ति के भाग्य के साथ एक विशिष्ट तरीके से उस वक्त जुड़ जाती है जब वे अपने जन्मस्थान पर अपनी पहली सांस लेते हैं।

यह ऊर्जा जुड़ाव धरती के निवासियों के साथ तब तक रहता है जब तक उनका वर्तमान शरीर जीवित रहता है। मनुष्य भी, ग्रह  या उसके स्वामी देवता के साथ संयम के माध्यम से किसी विशिष्ट ग्रह  की चुनिन्दा ऊर्जा के साथ खुद की अनुकूलता बिठाने में सक्षम हैं।

हमारे देश में भारतीय ज्योतिष पर इतना अधिक विश्वास किया जाता है कि विवाह और व्यापार जैसे महत्वपूर्ण मसले सलाह- मशविरा करने के बजाय कुंडलियों के आधार पर होते हैं। ग्रहों द्वारा सूर्य की परिक्रमा के कारण इन ग्रहों का हमारे जीवन पर प्रभाव बहुत अधिक बढ़ जाता है।

 

यदि आप जानना चाहते हैं

अगर आप, बिलकुल जायज़ कीमत पर, प्राचीन ग्रंथों के हिसाब से अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो हमें 94 7878 4000 पर व्हात्सप्प करें। और यदि आप पहले हमारा नंबर सेव नहीं करना चाहते तो फिर स्क्रीन के निचे (सिर्फ मोबाइल स्क्रीन पर) जो 4-5 बटन दिए गए हैं, उनमें से व्हात्सप्प वाले बटन पर क्लिक करके आप सीधा व्हात्सप्प भेज सकते हैं। अगर किसी बजह से आपको वो लिंक नहीं मिल रहा (या यदि आप PC पर हैं), और आप नंबर सेव नहीं करना चाहते, तो या तो कॉल कर लीजिये, या फिर इस वेबसाइट के ‘कांटेक्ट अस‘ पेज के थ्रू हमसे संपर्क कीजिये।

you're currently offline